प्रेरणा

मैं मात्र एक 'नन्ही कलम ' ज्ञानोदय की दिशा में बढ़ते नन्हे कदम !ज्ञानोदय ही जीवन का परम आदर्श व् लक्ष्य होना चाहिए ! आएँ इस दिशा में प्रेरित हों और मानवतावाद का प्रसार करें !

18 Posts

44 comments

sunitasharma


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

उम्मीद

Posted On: 17 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others में

0 Comment

हिन्दी का दर्द

Posted On: 8 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.25 out of 5)
Loading ... Loading ...

Career Celebrity Writer Contest Entertainment में

8 Comments

शिक्षक दिवस

Posted On: 4 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 2.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Career Celebrity Writer Contest Entertainment में

0 Comment

कलयुग में कान्हा

Posted On: 26 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Career Celebrity Writer Contest Hindi News में

11 Comments

सुन सखी मौत

Posted On: 23 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Junction Forum Others social issues में

1 Comment

तिरंगे की शान

Posted On: 19 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi News Hindi Sahitya Junction Forum Others में

2 Comments

तिरंगे की व्यथा

Posted On: 14 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Junction Forum Others Politics में

1 Comment

इंसानियत

Posted On: 20 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

गौरिया

Posted On: 20 Mar, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ में

0 Comment

विद्यार्थियों में आत्महत्या का बढ़ता प्रचलन

Posted On: 14 Mar, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

इस पर भी …,क्या तुम्हे चैन नही आया जो तुमने मेरी पुण्यतिथि को… हिन्दी दिवस के रूप में मनाया तुमने मुझको हिन्दी दिवस की… बेडी में जकड दिया, अपने भारतीय होने का स्वांग , तुम सबने रचना सीख लिया !! पूरे वर्ष ठुकराने पर १४ सितंबर पर ही क्यों …. मेरी महिमा का गुणगान और मेरे इतिहास खंगालते तुम मेरे लिए समारोह ,संगोष्ठियों पर समय नष्ठ कर …. मेरे स्वाभिमान को … अभिशापित कर रहे हो , कभी कभी मुझे , तुम सब पर दया आती है , अपने भविष्य को देख … मेरी रूह थरथराती है , काश …तुम आज भी .. संभल जाते …. …..और अपने, भारतीय होने का … सम्मान बचा पाते ! वाहहहह्ह क्या सटीक व्यंग नवीन बिम्बों के साथ ......गज़ब हिन्दी दिवस को पुण्यतिथि दिवस ....अतुलनीय प्रयोग .....क्या बात ,बहुत बड़ाई आपको सुनीता जी ,एक निवेदन कृपया पेज सही कर लें !

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: Nikhil Nikhil

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

के द्वारा: bhanuprakashsharma bhanuprakashsharma




latest from jagran